अपराध जगत में महिलाओं का प्रवेश भारतीय समाज के लिए घातक

संजय रोकड़े भारतीय समाज में आजकल बड़े-बड़े अपराधों पर पुरूषों का ही अधिपत्य नही रहा है। इस क्षेत्र में अब महिलाएं भी बड़ी तादात में हाथ अजमा...




संजय रोकड़ेभारतीय समाज में आजकल बड़े-बड़े अपराधों पर पुरूषों का ही अधिपत्य नही रहा है। इस क्षेत्र में अब महिलाएं भी बड़ी तादात में हाथ अजमाने लगी है। कभी चंबल के बीहड़ों में फूलन देवी, सीमा परिहार जैसी दस्यु सुंदरियों सहित कुछ गिनी चुनी महिलाएं अपराध में शामिल होती थीं लेकिन बीते कुछ सालों का आंकड़ा देखे तो यह तस्वीर साफ नजर आती है कि आपराधिक दुनिया में महिलाओं की संख्या भी बड़ी तेजी से बढ़ी है।
अब महिलाएं अपराध के मामले में खुले तौर पर हर काम में शामिल है। प्रापर्टी के नाम पर अवैध धंधे का मामला हो या चाहे शादी ब्याह के नाम पर लोगों को बेवकुफ बना कर ठगी का मामला हो या हफ्तावसूली, स्मैक व नशीले पदार्थ बेचना हो या पौकेटमारी करना हो हर काम में अब किसी न किसी महिला का नाम शामिल है। आज के इस आधुनिक दौर में महिलाएं अब अपराध की दुनिया में मर्दों का मुकाबला करने में पीछे नही है। हाल ही में मध्यप्रदेश के इंदौर शहर से योगिता अजमेरा को क्राइम ब्रांच ने दबोच कर कोर्ट में पेश किया है। इस महिला पर फीनिक्स टाउनशिप के नाम पर सैकड़ों लोगों से धोखाधड़ी करने की आरोप है। योगिता का नाम सवा सौ करोड़ के उस जमीन घोटाले में शामिल है जिसमें उसका पति चंपू उर्फ रितेश अजमेरा और उसके परिवार के कई लोग आरोपी हैं। पुलिस ने योगिता पर दस हजार रुपए का इनाम भी रखा था।
जब मुंबई से अरेस्ट करके क्राइम ब्रांच की टीम योगिता को इंदौर लाई तो वह पूरे समय थाने में मुंह छिपाती रही और कोर्ट में पेश होने के दौरान कैमरे से बचती रही। सनद रहे कि योगिता को जस्टिस धर्मेंद्र कुमार टाडा की कोर्ट में पेश किया गया था लेकिन वह वहां भी काफी नखरे दिखाती रही। खबरें तो ये भी सामने आ रही है कि फरारी के दौरान योगिता का उसके फरार जेठ नीलेश व उसकी पत्नी सोनाली से विवाद भी हुआ था। इन्हीं के द्वारा योगिता के मुंबई में होने की जानकारी क्राइम ब्रांच को लगी थी। योगिता को पुलिस ने मुंबई जाकर ऐसे पकड़ा की उसको भनक तक न लगी। पुलिस के मुताबिक उसे सूचना मिली थी कि योगिता नेपाल के कैसिनो में देखी गई है। इस पर पुलिस नेपाल जाने की तैयारी में थी, इसी बीच पता चला कि योगिता मुंबई में परिचित सीमा जैन के यहां छिपी है। जब क्राइम ब्रांच की टीम ने उस फ्लैट पर दबिश दी तो उस समय वहां बेटा ही मिला। योगिता परिचित के यहां गई थी। करीब 5 घंटे का लंबा इंतजार कर क्राइम की टीम वहीं डटी रही और जो भी फ्लैट पर आया उसका मोबाइल बंद कर बैठा लिया। घंटों इंतजार के बाद जब योगिता आई तो पहले उसने चौकीदार को ऊपर भेजा। चौकीदार को भी जब टीम ने बैठा लिया तो इसके बाद एक परिचित को भेजा। पुलिस ने उसे भी पकड़ कर बिठा लिया। इसके बाद योगिता एक रेस्टोरेंट में जाकर छिप गई। बाद में घेराबंदी कर योगिता को पुलिस ने वहां से गिरफ्तार किया। काबिलेगौर हो कि योगिता इतनी शातिर दीमाग महिला है कि एक ही प्लॉट को कई लोगों को बेच दिया और कागज में हेरफेर कर सरकारी जमीनों पर भी कॉलोनी काट दी। पुलिस से बचने के लिए उसने कोई फोन इस्तेमाल नहीं किया और न ही बैंक अकाउंट्स तक ऑपरेट किए। हालाकि पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद वह कहने लगी उसे पति चंपू के फर्जीवाडे की कोई जानकारी नहीं है, वह डायरेक्टर थी इसलिए केवल दस्तावेजों पर साइन किए थे। इसके साथ ही उसने बताया कि फरारी के दौरान वह मुंबई के अलावा धुले और नागपुर में भी रही थी। इस दौरान उसे उज्जैन में रहने वाले उसके माता-पिता आर्थिक मदद कर रहे थे। अब क्राइम ब्रांच फरारी में योगिता की मदद करने वालों को भी आरोपी बनाएगी।कुछ-कुछ इसी तरह की धोखाधड़ी का एक और मामला इंदौर में ही सामने आया है। यहां बीते दिनों लुटेरी दुल्हनों का एक गिरोह पकड़ में आया है। इस गिरोह में शामिल अधिकतर लडकियां पैसे वालों की तलाश कर उनको अपना शिकार बनाती थी। गिरोह की सरगना का आलम तो यह है कि वह बड़े- बड़े आसामियों की ही खोज में जुटी रहती थी। ये अधेड़ उम्र के कारोबारी और किसानों से लाखों रूपये लेकर शादी करवाती थी। क्राईम ब्रांच ने हाल ही में इस गिरोह की सरगना को गिरफ्तार किया है। बाकिलेगौर हो कि गिरोह की सदस्य शादी के कुछ दिनों के बाद ही जेवरात व नगदी समेट कर फरार हो जाती थी। इस गिरोह में शामिल अधिकांश महिलाएं छह से आठ महिने में अपना पति बदल लेती है। सबसे चौकाने वाली बात तो ये है कि जब उनको फरार होने का अवसर नही मिल पाए तो महिनों पति के साथ रहती और इसी बीच वह गर्भवती भी हो जाती। पुलिस ने गिरोह की सरगना से चार बच्चे भी बरामद किए है। इंइौर के डीआईजी हरिनारायण चारी की माने तो चंदन नगर इलाके की निवासी ज्योति उर्फ काली चौधरी ने घर में चार बच्चों को छुपा रखा था और यही मास्टर मांइड रही है। वह बच्चों को कभी बाहर भी नही आने देती थी। हालाकि घर के अंदर से रोज बच्चों के रोने की आवाज आती थी। इसी शंका पर पुलिस ने मानव तस्कर गिरोह की जांच करने वाली टीम को सादी वर्दी में रेकी के लिए छोड़ा। जब शक के आधार पर ज्योति को हिरासत में लिया तो उसने पुछताछ में बताया कि बच्चे उसकी परिचित शिवानी और अन्य तीन महिलाओं के है। इन चारों महिलाओं की कुछ महिने पूर्व ही शादी हुई थी। उसने यह भी बताया कि यह उसकी दूसरी शादी है, अपने पहले पति को छोडकर सात साल पूर्व विजय चौधरी से दूसरी शादी कर ली थी। विजय अभी जेल में है। इस मामले पुलिस को ये भी शक है कि कहीं ये महिलाएं बच्चों को बेचने के काम के साथ ही भीक तो नही मंगवाती हो। पुलिस इन बच्चों का डीएनए टेस्ट कराने पर भी विचार कर रही ही है ताकि इनके असली पिताओं की जानकारी मिल सके। हालाकि पुछताछ में ज्योति बच्चों के पिताओं के बारे में जानकारी नही दे पाई लेकिन यह साफ बता दिया कि वह शादी कराने वाले एक फर्जी गिरोह से जुड़ी हुई है और इनके पिताओं की जानकारी उसे नही है। इसके बाद ही पुलिस ने ज्योति पर केश दर्ज कर रिमांड पर लिया। अपुष्ट खबरें तो ये भी है कि इंदौर क्राईम ब्रांच ने दुल्हनों के पुराने पतियों को भी ढूंढ लिया है। इसके साथ ही नए पतियों को भी अलर्ट रहने की सीख दी है। इधर एएसपी क्राईम अमरेन्द्रसिंह की माने तो ज्योति उर्फ काली ने पूछताछ में बताया है कि जो बच्चे बरामद किए गए है उनमें से दो ललिता और दो रिंकू के है। ललिता की शादी बाबूलाल उर्फ सोमराज जाट निवासी लापुरा सवाई माधोपुर, राजस्थान और रिंकू की शादी देशराज निवासी सिकर से चार माह पूर्व ही हुई थी। फरार होने का मौका नही मिलने के कारण दोनों ससूराल में ही है। जब पुलिस ने इन दोनों लडकियों के पुराने पतियों को ढूंढ कर पुछताछ की तो वे बोले कि वर्षों पूर्व छोडकर चली गई थी। इस बीच पप्पू जाट नाम का एक दलाल भी सामने आया है। इसी दलाल के माध्यम से शादी तय होती थी। पप्पू दलाल के मुताबिक शादी की रकम तय होने के बाद वर-वधु पक्ष नोटरी पर लिखा पड़ी कर लेता था। इस दलाल के माध्यम से ये रैकैट अनेक स्थानों तक फैला है। पुलिस इसकी जड़ तक जाने के प्रयास में लगी हुई। अब पुलिस ने उन लोगों को भी अलर्ट कर दिया है जिन्होंने रूपए देकर शादी की थी। सनद रहे कि अपराध की दुनिया में हरियाणा की महिलाएं भी कमतर नही है। यहां भी बीते समय एक ऐसी महिला अपराधी को पुलिस ने पकड़ा था जो स्मैक बेचती थी। इनके अलावा भी अपराध की इस दुनिया में अनेक ऐसी महिलाएं  है जो बड़े-बड़े सैक्स रैकेट चलाती है। इस तरह की महिलाएं पैसों के लिए अपने संपर्क में आने वाली दूसरी युवतियों को भी उसी नरक में धकेल देती है। वजह चाहे जो भी हो, ऐसे अपराधों में संलिप्त महिलाएं दबंग, निडऱ और आक्रामक प्रवृत्ति की होती है। ये तो रहे देश में छोटी मुंबई के नाम से पहचाने जाने वाले मध्यप्रदेश के इंदौर शहर व हरियाणा की महिलाओं के कुछ कारनामें। अब आपको ले चलते है देश की माया नगरी मुंबई। यहां हम सबसे पहले माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम की बहन हसीना पारकर के अपराध जगत की कहानी को समझते है। ये सब भली-भांति जानते है कि दाऊद के भारत से विदेश भाग जाने के कुछ साल तक तो खुद उसने स्वंय यहां के आपराधिक कारोबार पर नियंत्रण रखा लेकिन मुंबई बम धमाकों में प्रमुख अभियुक्त करा दिए जाने के बाद उस पर पुलिस की चौकस निगााहें रहने और प्रतिद्वंद्वी गिरोहों से भी बढ़ती तनातनी के कारण दाऊद ने अपने गैंग की यहां की गतिविधियों पर नियंत्रण रखना छोड दिया। इसके बाद से ही मुंबई समेत आसपास के माफिया कारोबार पर उसकी बहन हसीना पारकर ने कब्जा जमा लिया। ये बात दीगर है कि पुलिस को हसीना की इन सब गतिविधियों की जानकारी होने के बावजूद वह पुख्ता सबूतों के अभाव में उस पर हाथ नही ड़ाल सकी। सबूतों के अभाव में पुलिस हसीना पर शिकंजा नही कस सकी। मुंबई के ही अरूण गवली के बारे में सब जानते है। अरूण के संबंध में भी खबरे यही है कि जब वह अपने आपराधिक मामलों को लेकर जेल में बंद था तब उसके गिरोह का संचालन उसकी पत्नी आशा गवली ही करा करती थी। माफिया सरगना अश्विन नाईक का मामला भी कुछ इसी तरह का है। उसके भी जेल में बंद होने के दौरान गिरोह की कमान उसकी पत्नी नीता नाईक के हाथों में होती थी। हालाकि बाद में नीता ने राजनीति में किस्मत आजमाने के लिए शिव सेना का दामन थाम लिया था और मुंबई से वह नगर सेविका भी चुनी गई लेकिन नीता के चरित्र पर शक होने के कारण अश्विन ने उसकी हत्या करवा दी। अब ठाने की तरफ रूख करते है। ठाणे के उपनगरीय इलाकों में सुरेश मंचेकर कभी आतंक का पर्याय हुआ करता था। सुरेश की होटल व्यवसायियों और भवन निर्माताओं के बीच जबरदस्त दहशत थी। हफ्तावसूली और सुपारी लेकर हत्याएं करवाना उसका मुख्य काम था। न केवल मुंबई बल्कि गोआ, हैदराबाद और मध्य प्रदेश में भी उसका जाल फैला था। सुरेश ने इन सभी जगहों पर अकूत संपत्ति भी बनाई। बताते हैं कि सुरेश जब मुंबई में नहीं होता था तो उसके गिरोह की बागडोर उसकी बूढ़ी मां लक्ष्मी और पत्नी सुप्रिया के हाथों में ही हुआ करती थी। मोनिका बेदी की कहानी भी इन महिला अपराधियों से जुदा नही था। मोनिका जब बॉलीवुड में काम पाने के लिए संघर्ष कर रही थी और उसे कोई निर्माता घास नहीं डाल रहा था तब अबू सलेम ने उसकी मदद की थी। अबू के धमकाने पर मोनिका को एक नहीं कई फिल्मों में काम मिला था। अबू सलेम के इस एहसान से मोनिका इस कदर दब गई कि बिना आगे पीछे सोचे वह अबू के हर काम में उसका साथ देने लगी। धीरे-धीरे वह कब आपराधिक दुनिया में प्रवेश कर गई उसे कुछ पता ही नही चला। ब्यूटीशियन का काम करने वाली रुबीना का भी आपराधिक कैरियर खासा रोचक है। रूबीना को दौलत और रुतबे की खासी चाह थी। इसी के चलते वह छोटा शकील गिरोह से जुड़ गई थी। छोटा शकील गिरोह में शामिल होने के बाद वह न सिर्फ उसका समूचा आर्थिक कारोबार संभालती थी बल्कि जेल में बंद गिरोह के सदस्यों की मदद करने का काम भी करती थी। छोटा शकील के गिरोह में ही एक और महिला थी-शमीम ताहिर मिर्जा बेग उर्फ पौल, जो हफ्तावसूली रैकेट के लिए इस गिरोह में अहम भूमिका निभाती थी। वह गिरोह के सरगना छोटा शकील को हफ्तावसूली के संभावित शिकार के बारे में भी अहम जानकारी मुहैया कराती थी। इसके अलावा वह हफ्तावसूली की रकम को हवाला के जरिए छोटा शकील के खाते में जमा कराने का काम भी करती थी। बता दे कि पिछले कुछ सालों में आपराधिक गतिविधियों में महिलाओं का ग्राफ बड़ी तेजी से बढ़ा है। इसकी वजह यह भी है कि महिलाएं अपने महंगे शौकों पर होने वाले खर्च की भरपाई के लिए इस तरह के शौर्टकट  अपनाने लगी है। कारण जो भी हो लेकिन यह रास्ता उनके लिए न केवल जिंदगी को तबाह कर देने वाला है बल्कि उनकी जान को भी जोखिम में ड़ालने वाला है। आजकल महिलाओं को अपने आपराधिक गिरोह से जोडऩ में माफिया सरगनाओं की भी खासी रूचि है। इन माफियाओं को महिलाओं को जोडने का एक सबसे बड़ा फायदा यह है कि महिलाओं पर जल्दी से कोई संदेह नहीं करता है। वे आसानी से काम को अंजाम दे देती है। इस तरह की अनेक महिलाएं हैं जो अलग अलग माफिया गिरोहों के लिए हथियार सप्लाई करने से लेकर अहम जानकारी जुटाने तक के काम में जुटी है। ऐसी भी अनेक महिलाएं हैं जो अलग से अपना आपराधिक कारोबार चला रही है। इस तरह के कारोबार के आरोप में फरार महिला अपराधियों में अंजली माकन, शोभा अय्यर, शबाना मेमन, रेशमा मेमन, समीरा जुमानी के नाम प्रमुखता से लिए जाते है। शबाना और रेशमा मुंबई में हुए बम विस्फोट कांड के आरोपी अयूब मेमन व टाइगर मेमन की बीवी है। समीरा जुमानी पासपोर्ट रैकेट में अभियुक्त है। अंजली माकन एक बैंक से डेढ़ करोड़ रुपए की धोखाधड़ी कर फरार है। शोभा अय्यर एक प्लेसमैंट एजेंसी चलाती थी और लोगों को रोजगार दिलाने के नाम पर खासी दौलत बटोरी। इधर आंकडों की नजर से भी देखे तो अपराध जगत में अपराधी महिलाओं की संख्या कम नहीं है। मुबई, दिल्ली, कोलकाता, बैंगलूरू और तमाम सारे महानगरों की अपेक्षा छोटे-छोटे शहरों में भी अब महिलाएं तेजी से अपराध जगत में पैर पसारने लगी है। हालाकि महाराष्ट्र ने खासकर मुंबई ने महिला अपराध जगत में अपना वर्चस्व साबित किया है लेकिन बीते कुछ सालों में छोटे शहरों की महिलाओं ने भी खासा कमाल दिखाया है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के कुछ पुराने आंकड़ों पर गौर फरमाएं तो महाराष्ट्र की सर्वाधिक 90,884 महिलाओं को विभिन्न अपराधों के तहत गिरफ्तार किया गया। महिला अपराध में महाराष्ट्र के बाद आंध्र प्रदेश का नंबर रहा है। आंध्र में बीते सालों में 57,406 महिलाओं को गिरफ्तार किया था। इसके बाद मध्य प्रदेश का नंबर आता है, जहां 49,333 महिलाओं को गिरफ्तार किया गया। हालाकि गुजरात महिला अपराधों के मामले में कुछ राहत देता है। इस मामले में यह राज्य चौथे नंबर पर था। अपराध जगत में शामिल इन महिलाओं ने देश की पुलिस ही नही बल्कि इंटरपोल तक को परेशान कर रखा है। भारत की ऐसी अनेक महिला डॉन है जिनको पकडऩे के लिए इंटरपोल ने दुनियाभर में नोटिस जारी किए हुए है। इनके खिलाफ जालसाजी,धोखाधड़ी और अपराध के कई संगीन मामले दर्ज है। मतलब साफ है कि अब अपराध की दुनिया को भी महिलाएं पुरूषों का वर्चस्व वाला क्षेत्र नही रहने देना चाहती है। बहरहाल नारी जगत का  अपराध में पैर पसारना बड़े ही चिंता का सबब बनते जा रहा है। वक्त रहते शासन-प्रशासन व हमारे नीति-निर्माताओं ने ध्यान नही दिया तो यह स्थिति भयावह होकर भारतीय समाज के लिए घातक साबित होगी। मुसीबत खड़ी कर देगी।
(लेखक मीडिय़ा रिलेशन पत्रिका का संपादन करने के साथ ही सम-सामयिक विषयों पर कलम चलाते है। ये उनके निजी विचार हैं)
Name

100,12,11,4,120mm,1,131,1,150,1,16,3,17,1,18,5,191,1,1967,1,1Kg,1,1st,1,20,8,200,1,2013,9,2014,7,2015,9,2016,15,2017,72,2018,1,22,4,23,1,23 march,1,24,6,25,9,256,4,261,4,28,5,2nd Semi Final,1,30,4,3000,1,30GB,1,31,4,32,5,3D,4,3S,1,40,1,400,1,41,8,417,4,45,4,46,4,4G in India,47,4K,1,50,15,500,2,5000,1,50000 rs gaming PC,1,51,1,52,1,53,2,5G,1,60,4,69,5,6th Match,1,6X,2,70,1,7680x4320,1,790,1,847,4,848,4,8K,1,998,4,A2,2,Aajkaal,1,AAP,1,Aaple Sarkar Wifi,14,Abhiyan,1,About,4,AC,4,ACC,1,accepts,1,Access,1,Accessories,5,accounts,1,acquires,1,act,1,ACT Fibernet,30,ACT Fibernet Bengaluru,16,ACT Fibernet Hyderabad,14,ACT Fibernet Internet plan Bengaluru,16,ACT Fibernet plans Hyderabad,14,action,1,activity,1,actor,1,Actress,2,acts,4,ad,1,Add On Ped,1,additional,1,addresses,1,adds,6,Admiralty,1,AdNow,1,AdroitSSD,1,AdSense,1,advance,1,advantage,1,Adventure,1,Adventure Time,1,adverse,1,advises,1,aerobic,1,Affiliate,1,Affordable,1,Afghanistan,1,Africa,2,After,2,again,2,against,2,Agra,30,agreeing,1,Ahmedabad Mirror,1,Ahmedabad Samay,1,AIMIM,3,aims,1,aio cooler,1,air,1,air coolers,1,Aircel,6,Aircel New User Offers,6,airport,2,Airtel,2,Airtel Digital,73,airtel digital tv,20,Airtel Digital TV SVOD,20,Airtel digital tv SVOD in bengali,20,airtel dth,13,airtel dth tariff hike,13,airtel dth via wifi,20,Airtel free data,6,airtel international roaming,7,airtel myHome Service,6,airtel postpaid free data,9,airtel stb with internet,20,airtel surprises,6,Airtel V fiber broadband in Kolkata,11,airtel v-fiber,11,Ajab Gajab,291,Akila,1,Akshay,4,Al,1,Album,4,Alexa,1,ALEXIS,1,Alia,3,All,1,alliance,1,allocates,1,allotment,1,Always,1,am,1,Amar Ujala,1,amazing,2,Amazingly,4,Amazon,9,amazon india,3,amazonBest Mini Tower PC cases in India,1,Amber Heard,4,AMD,1,amd india,1,amd polaris,1,amd ryzen,1,amd ryzen in india,1,American,2,Amitabh,1,am